Monday, March 2, 2009

कथा भृगु संहिता की


विनय बिहारी सिंह

भृगु संहिता कैसे लिखी गई, इसकी एक रोचक कथा है। ऋषि भृगु हर लोक में कभी भी जा सकते थे। एक बार वे भगवान विष्णु से मिलने बैकुंठ लोक गए। द्वार पर जय- विजय नामक द्वारपालों ने उन्हें रोका। यह ऋषि भृगु के लिए चकित करने वाली बात थी। उन्हें आज तक कहीं किसी ने रोका नहीं था। वे क्रोधित हो गए। उन्होंने जय- विजय को श्राप दे दिया। द्वारपालों ने सिर झुका लिया और उन्हें विष्णु भगवान के पास जाने दिया। उन्होंने जा कर देखा कि विष्णु भगवान सो रहे हैं और माता लक्ष्मी उनका पैर दबा रही हैं। भृगु ऋषि को लगा कि भगवान सोने का बहाना कर रहे हैं। उन्होंने गुस्से में विष्णु भगवान की छाती पर जोर से लात मारी। विष्णु भगवान ने आंखें खोलीं और हाथ जोड़ कर बोले- ऋषिवर, कहीं आपके पैर में चोट तो नहीं लगी। भगवान की यह विनम्रता देख कर भृगु जी चकित हुए। लेकिन माता लक्ष्मी को क्रोध आ गया। उन्होंने भृगु ऋषि को शाप दिया- आपने मेरे पति का अपमान किया है, इसलिए मैं शाप देती हूं कि अब तक तपस्या के लिए आप सबको बिना प्रयत्न के ही फल- फूल और धन मिल जाया करता था। लेकिन अब आपको इसके लिए श्रम करना पड़ेगा। । भृगु ऋषि ने कहा कि माता मैंने तो विष्णु भगवान से माफी मांग ली है। लेकिन जब आपने शाप दे ही दिया तो मैं एक ऐसा ज्योतिष ग्रंथ लिखूंगा, जिसके आधार पर हमारे जैसे ऋषि और अन्य ब्राह्मण अद्भुत भविष्यवाणी करेंगे और उससे उनकी जीविका चलेगी। इसके बाद वे अपने आश्रम में गए और भृगु संहिता की रचना की। लेकिन आज मूल भृगुसंहिता कहीं नहीं है। हालांकि जहां जहां भृगु संहिता होने की बात कही जाती है, वहां के लोग उसे ही मूल भृगु संहिता कहते हैं और बाकी को जाली। होशियारपुर (पंजाब) में एक भृगुसंहिता का पता चला था। लेकिन वहां जाने पर पता चला कि वहां पहुंचने वाले प्रश्नकर्ता या जातक की प्रश्न कुंडली बना कर भविष्यवाणी की जाती है। प्रश्न कुंडली तो दक्षिण भारत की कृष्णमूर्ति पद्धति में भी है और बहुत ज्यादा सटीक है। इसलिए वहां मूल भृगु संहिता है, इस पर शंका हो गई। वैसे भृगु संहिता में जो बातें हैं, उन्हें संक्षेप में यहां दिया जा रहा है-गणितीय ज्योतिष औऱ फलित ज्योतिष और अंक ज्योतिष। इसमें जन्म कुंडली, विंशोत्तरी दशा, भविष्यवाणी, पूर्व जन्म का ब्यौरा, जीवन की घटनाएं और ज्योतिषीय उपाय।मुझे इस संबंध में यही कहना है कि दक्षिण भारत की कृष्णमूर्ति पद्धति ज्यादा सटीक होती है। मैं स्वयं, उसी का विद्यार्थी रहा हूं। उससे भविष्यवाणी करने में सुविधा होती है।

5 comments:

योगेश समदर्शी said...

बहुत अच्छी जानकारी दी आपने.... आपको निरंतर पढना चाहूंगा..

dsafwefas said...

香港女星寫真,a片分享,美女色情裸體,台灣kiss情色貼圖,美腿圖,正妹,日本情色網,情色卡通下載,免費下載的做愛照片,線上a片免費看,tube影片,情色成人,ro 私服論壇,色情網,aaa片免費看短片分享區,日本人妻熟女自拍貼圖,蕃薯論壇,台灣網友自拍貼照,嘟嘟成人網,狂插漂亮美眉,8591論壇,女同志聊天室,人妻俱樂部網站,背包客棧論壇,成人性感內衣,看美女脫光光,黑澀會美眉無名,

色咪咪貼影片,無碼a片,aa片免費看,免費線上觀看a片,做愛的圖片,色情漫畫,性感卡通美女圖片,香港a片,自拍,情色圖書館,plus 28 論壇,1007視訊,熟女自拍照,苗栗人聊天室,黑澀會美眉即時通,jp成人,色情,aaaaa片俱樂部,情侶歡愉用品,

okav成人影院,網友裸體自拍,交友ukiss,娘家影片,a片免費,黑澀會美眉即時通,人妻性交俱樂部,聊天室尋夢園,18禁,情色性感美女圖片,美女短片免費試看,3級女星寫真,情色短片論壇,摯愛中年聊天室,美腿貼圖,影音聊天,聊天室找一夜,g世代論壇,

seema gupta said...

मुझे भी बेहद रोचक लगी ये कथा..आभार...

regards

LUCKY said...

sir bhrigu sanhita aj bhi yhan hai or main koi jyotishi nhi hun

ashutosh said...

aap kahte he bhigu samhita kahi nahi he to wo gayi kaha, kahi to hogi LUCKY ji kahte he ki yaha he to kaha he. KRISHANMURTY PADHTI ke bare me thoda vistar se bataye. bhigu samhita kaha he koi bata sakta he.