Tuesday, March 24, 2009

क्या हमें ईश्वर सर्वाधिक प्रिय हैं?



विनय बिहारी सिंह


हममें से कितने लोग हैं जो ईश्वर से जी भर कर प्यार करते हैं? हमारे जीवन में मां का स्थान सबसे ऊंचा है। मां के प्यार का कोई विकल्प नहीं है (हालांकि मेरी मां मेरे बचपन में ही गुजर गई थीं, तबसे जगन्माता ही मुझे प्यार दे रही हैं) । क्या हम ईश्वर से मां से भी बढ़ कर प्यार कर पाते हैं। ईश्वर से प्यार करने की बात इसलिए क्योंकि उसी ने हमें जीवन दिया है। हम जो सांसें लेते हैं, उसी की कृपा के कारण। हम सबकी सांसें गिनी हुई हैं। जब सांस पूरी हो जाएगी तो हमें अंतिम सांस ले कर इस संसार से विदा लेनी पड़ेगी? क्या आपने कभी सोचा है कि जन्म लेने के पहले आप कहां थे? या मृत्यु के बाद कहां जाएंगे? आपका जीवन जीवन और मृत्यु के बीच वाला हिस्सा भर है। क्या आप जानते हैं कि दूसरों को नुकसान पहुंचाने का विचार आपको भी कभी न कभी नुकसान पहुंचा कर दम लेता है? जी हां, यह सच है। तो सवाल था कि हममें से कितने लोग ईश्वर को दिलो जान से चाहते हैं? क्या हम ईश्वर के लिए कभी भी रोते हैं? नहीं। हम पत्नी के लिए, प्रेमी या प्रेमिका के लिए, मां- पिता के लिए तो रोते हैं। व्यवसाय में नुकसान होने पर तो रोते हैं। लेकिन ईश्वर को दर्शन देने के लिए नहीं रोते। कोई चीज हम नहीं पा सके तो उसका दुख हमें खूब होता है। कोई मौका खो देते हैं तो उसका दुख भी खूब होता है। किसी ने गहरा दुख पहुंचा दिया तो कई अकेले में रोते हैं। लेकिन ईश्वर के लिए बहुत कम लोग रोते हैं। इसका अर्थ यह नहीं कि हमें दिन रात ईश्वर के लिए रोना ही चाहिए। उससे प्रार्थना करनी चाहिए, ध्यान करना चाहिए। उसे हमेशा दिल में रखना चाहिए। लेकिन जब लगे कि उसने आपकी बात का मूक जवाब नहीं दिया, कोई संकेत भी नहीं दिया तो हम शिकायत क्यों न करें। आखिर बचपन में मां से अपनी बात मनवाने के लिए रोते थे या नहीं?

5 comments:

दर्पण साह 'दर्शन' said...

sir mujhe ishwart priya to hai par nirakar....
:)
...sargarbhit lekh...

vinay bihari singh said...

ईश्वर साकार और निराकार दोनों हैं। आप परम भाग्यशाली हैं कि ईश्वर आपको प्रिय हैं।
ईश्वर को जो प्रेम करते हैं, ईश्वर उन्हें अनंतगुना प्रेम करते हैं।
आपका जीवन परम सुखमय बने।

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर बातें की ... ईश्‍वर से हमें सबसे ज्‍यादा प्‍यार होना चाहिए।

हरि जोशी said...

दरअसल ईश्‍वर का हम इस्‍तेमाल करते हैं। अगर प्रीत भी है तो भय से या लोभ से।..भय बिन प्रीत न होए गुंसाईं। आपका दार्शनिक आलेख पढ़कर अच्‍छा लगा।

dsafwefas said...

香港女星寫真,a片分享,美女色情裸體,台灣kiss情色貼圖,美腿圖,正妹,日本情色網,情色卡通下載,免費下載的做愛照片,線上a片免費看,tube影片,情色成人,ro 私服論壇,色情網,aaa片免費看短片分享區,日本人妻熟女自拍貼圖,蕃薯論壇,台灣網友自拍貼照,嘟嘟成人網,狂插漂亮美眉,8591論壇,女同志聊天室,人妻俱樂部網站,背包客棧論壇,成人性感內衣,看美女脫光光,黑澀會美眉無名,

色咪咪貼影片,無碼a片,aa片免費看,免費線上觀看a片,做愛的圖片,色情漫畫,性感卡通美女圖片,香港a片,自拍,情色圖書館,plus 28 論壇,1007視訊,熟女自拍照,苗栗人聊天室,黑澀會美眉即時通,jp成人,色情,aaaaa片俱樂部,情侶歡愉用品,

okav成人影院,網友裸體自拍,交友ukiss,娘家影片,a片免費,黑澀會美眉即時通,人妻性交俱樂部,聊天室尋夢園,18禁,情色性感美女圖片,美女短片免費試看,3級女星寫真,情色短片論壇,摯愛中年聊天室,美腿貼圖,影音聊天,聊天室找一夜,g世代論壇,