Saturday, January 16, 2010

वे रात दो बजे तक ओम नमः शिवाय जपते रहे

विनय बिहारी सिंह

यह घटना मेरे किशोर उम्र की है। मेरे गांव से जिला मुख्यालय १२ किलोमीटर दूर है। उस समय वहीं सिनेमा हाल थे। अब तो मेरे गांव तक में सिनेमा हाल है। यह १२ किलोमीटर की दूरी कुछ भी नहीं थी क्योंकि मेरे गांव से सारे साधन मिल जाते हैं। मैं बचपन से ही धार्मिक फिल्में देखना पसंद करता था। उस समय एक धार्मिक फिल्म लगी थी, जिसका नाम अब मैं भूल गया हूं। उन दिनों धार्मिक फिल्में खूब बनती थीं। राजा हरिश्चंद्र इत्यादि फिल्में मैंने बचपन में ही देखी थीं। मैं इस फिल्म को देखने के लिए जा रहा था तो मेरे गांव के एक अत्यंत धार्मिक व्यक्ति ने भी मेरे साथ फिल्म देखने की इच्छा जाहिर की। हम दोनों साथ चले। फिल्म में एक साधक ओम नमः शिवाय का वर्षों तक जाप करते हैं और तब भगवान शिव उन्हें दर्शन देते हैं और वर मांगने को कहते हैं। साधक उनसे वर मांगते हैं कि उनका जीवन जब तक रहे, प्रत्येक दिन शिव जी के प्रति उनकी श्रद्धा, भक्ति और समर्पण बढ़ता जाए और जब उनकी मृत्यु हो तो फिर दुबारा लौट कर पृथ्वी पर न आना पड़े। वे शिव जी में ही समा जाएं, लीन हो जाएं। तब भगवान शिव कहते हैं- ज्यादातर लोग मुझसे धन, यश, पुत्र, स्वास्थ्य, सुंदर स्त्री और सांसारिक सुख मांगते हैं लेकिन तुमने मुझसे मेरे प्रति भक्ति मांगी है इसलिए भक्ति और श्रद्धा तो तुम्हें दे ही रहा हूं, हर तरह का सांसारिक सुख भी दे रहा हूं। इस पर भक्त कहता है- नहीं प्रभु। मुझे सांसारिक सुख नहीं चाहिए। मैं सांसारिक सुखों में आपको भूल जाऊंगा। मुझे शुद्ध रूप से आपकी भक्ति चाहिए। भगवान शिव कहते हैं- नहीं पुत्र। तुम्हारी भक्ति दिनोंदिन बढ़ती ही जाएगी। तुम्हें मैं संसार के सारे सुख दे रहा हूं। हालांकि तुमने इसे लेने से इंकार कर दिया है। जाओ सुख से रहो और ईश्वर के प्रति भक्ति और श्रद्धा का संदेश लोगों में प्रसारित करो। उनका घर मेरे घर के पास ही है। उस दिन वे मेरे यहां ही सोए। वे हल्का खाना खाकर अपने बिस्तर पर बैठ गए और धीरे- धीरे ओम नमः शिवाय का जाप करने लगे। धीरे- धीरे मुझे नींद लग गई। अचानक रोने की आवाज से मेरी नींद खुली। देखता क्या हूं कि वे रो भी रहे हैं और ओम नमः शिवाय का जाप भी कर रहे हैं। जब रोना बंद होता है तो ओम नमः शिवाय का जाप कर रहे हैं। मेरी नींद पूरी तरह टूट गई। मैं उन्हें डिस्टर्ब नहीं करना चाहता था। रात दो बजे तक वे जाप करते रहे। मेरे घर से कुछ ही दूरी पर दो शिव मंदिर हैं। एक उत्तर की तरफ और दूसरा दक्षिण की तरफ। मैंने देखा वे रोज किसी न किसी शिव मंदिर में जा कर जल, फूल और अक्षत इत्यादि चढ़ा रहे हैं और रात को भी ओम नमः शिवाय का जाप कर रहे हैं।उनका यह क्रम जीवन भर चलता रहा। कोई फिल्म किसी के जीवन पर इतना गहरा प्रभाव डाल सकती है, यह मैंने पहली बार देखा था। आज वे इस दुनिया में नहीं है। लेकिन उनकी याद आते ही मन श्रद्धा से भर जाता है।

4 comments:

rajvir singh beniwal said...

Bhole baba sabse nirale hai wo to sabko sab dete hai par mnushya bhool jata hai. Bhole baba ki kirpa se sab kusch mil sakta hai yadi kohi manushya unki sachhe man se pooja kare. Mein khud bhagwan bhole ka bhakt hun. Mein kalpana bhi nahi kar sakta hu jo mujhe bhagan bhole nath ne diya Hai. Mere yah ichha hai ki mein jeevan bhar bhole bhaba ki pooja aur gunbgan karta rahu. Me to yah kag=hunga ki mere jo bhi bhole baba ki sharan mein ayega uska jeevan par ho jayega. Rajvir Singh Beniwal

rajvir singh beniwal said...

Bhole baba sabse nirale hai wo to sabko sab dete hai par mnushya bhool jata hai. Bhole baba ki kirpa se sab kusch mil sakta hai yadi kohi manushya unki sachhe man se pooja kare. Mein khud bhagwan bhole ka bhakt hun. Mein kalpana bhi nahi kar sakta hu jo mujhe bhagan bhole nath ne diya Hai. Mere yah ichha hai ki mein jeevan bhar bhole bhaba ki pooja aur gunbgan karta rahu. Me to yah kag=hunga ki mere jo bhi bhole baba ki sharan mein ayega uska jeevan par ho jayega. Rajvir Singh Beniwal

Kaushalkumar Sharma said...

Bhole Baba bade dayalu hain.Sabki manokamna poori karte hain, jo unhein
sacchhe man se poojta hai. Main aur mera parivar shiv bhakt hai.
Om Namah Shivaye,Shubham Shubham Kuru
Kuru Shivaye namah om.

Jai Bhole Nath Jai ho Prabhu,Sabse Jagat main Uncha hai tu.

Jahanpanah Alam said...

Jai bhole aughad dani